मंगलवार, 24 अप्रैल 2018

जानें विश्व पुस्तक दिवस के बारें में - Know About World Book Day in Hindi

दोस्‍तो आज हम अपने पोस्‍ट में विश्‍व पुस्‍तक दिवस के बारें में बात करेंगे विश्व पुस्तक दिवस वर्ष 2018 में पूरी दुनिया भर में 23 अप्रैल, यानि सोमवार को मनाया जायेगा पुस्‍तकों का हमारे दैनिक जीवन बहुत ही महत्‍व है क्‍योंकि मानव का शरीर बिना पुस्‍तक के इस तरह है जैसे बिना पन्‍नों के कॉपी हो तो आइये दोस्‍तो जानते है जानें विश्व पुस्तक दिवस के बारें में (Know About World Book Day in Hindi) के बारें में -

Know About World Book Day in Hindi

जानें विश्व पुस्तक दिवस के बारें में - Know About World Book Day in Hindi

विश्‍व पुस्‍तक दिवस सम्‍पूर्ण दुनिया में 23 अप्रैल को लोगों के द्वारा हर वर्ष मनाया जाने वाला विश्व पुस्तक दिवस एक वार्षिक कार्यक्रम है जिसका प्रमुख उददेश्‍य मनुष्‍यों के बीच पुस्‍तक पढ़ना, प्रकाशन और प्रकाशनाधिकार को पूरी दुनिया के लोगों के बीच बढ़ावा देना हैै इसके लिये विश्‍व पुस्‍तक दिवस यूनेस्को द्वारा सालाना आयोजित किया जाना वाला बहुत ही महत्वपूर्णं कार्यक्रम है
विश्‍व पुस्‍तक दिवस को पहले 23 अप्रैल को ना मनाकर इसे यूनाईटेड किंग्डम में मार्च के पहले गुरुवार को  मनाया जाता था लेकिन 23 अप्रैल 1995 में पहली बार यूनेस्को द्वारा विश्व पुस्तक दिवस की शुरुआत की गयी।
आमतौर पर विश्व में विश्‍व पुस्‍तक दिवस को अंतरराष्ट्रीय स्तर मनाने के पीछे बहुत सी कहानियाँ हैं दरसल मीगुएल डी सरवेंटस नाम से सबसे प्रसिद्ध लेखक को श्रद्धांजलि देने के लिये विश्‍व पुस्‍तक दिवस का आयोजन प्रतिवर्ष 23 अप्रैल को किया जाता हैै इसके अतिरिक्‍त स्पेन के विभिन्न किताब बेचने वालों के द्वारा वर्ष 1923 में पहली बार 23 अप्रैल की तारीख अर्थात् विश्व पुस्तक दिवस मनाने का निर्णय लिया गया क्‍योकि इस दिन मीगुएल डी सरवेंटस की पुण्यतिथि है

विश्व पुस्तक का महत्व (The importance of World Book Day)


यूनेस्को के द्वारा विश्व पुस्तक दिवस के उत्सव की तारीख को 23 अप्रैल निश्चित किया गया जो वर्ष 1995 में पेरिस में रखा गया था लगभग 100 देशों से अधिक इच्छुक लोग ऐच्छिक संगठनों, विश्वविद्यालयों स्कूलों, सरकारी या पेशेवर समूहों एवं निजी व्यापार आदि से जुड़ें होने केे बावजूद विश्व पुस्तक और कॉपीरइट दिवस को मनाने का निश्‍चय किया इससेे लोगों के बीच नये विचार को खोजने और अपने ज्ञान को फैलाने में लोंगो को सक्षम बनाता है किताबें विरासत का ख़जाना, संस्कृति, ज्ञान की खिड़की, संवाद के लिये यंत्र, संपन्नता का स्रोत आदि हैं इसलिए आज के बढतेे दौर में प्रत्‍येक व्‍यक्ति को किताबों की दूरी बढती जा रही हैै इसलिए प्रत्‍येक व्‍यक्ति को पुस्‍तकों तथा मानव केे बीच कीी दूरी को समाप्‍त करना ही विश्‍व पुस्‍तक दिवस का सबसे बडा महत्‍व है 

प्रमुख थीम (Top Themes) - 



  • वर्ष 2015 का थीम - “दुनिया को पढ़ों।”
  • वर्ष 2014 का थीम - “तेज बनो-किताबें पढ़ों।”
  • वर्ष 2013 का थीम - “पढ़ना; प्रकाशन और कॉपीराइट के द्वारा बौद्धिक संपदा की सुरक्षा।”
  • वर्ष 2012 का थीम - “किताबें और अनुवाद।”
  • वर्ष 2011 का थीम - “किताब निर्माण का विकास, लिखने से डिजिटल तक।”
  • वर्ष 2010 का थीम - “संस्कृति के मेल-जोल के लिये अंतरराष्ट्रीय वर्ष।”
  • वर्ष 2009 का थीम - “गुणवत्ता पूर्ण शिक्षा का विकास और प्रकाशन और मानवाधिकार के बीच जुड़ाव।”
  • वर्ष 2008 का थीम - “भाषा का अंतरराष्ट्रीय वर्ष।”
  • वर्ष 2007 का थीम - “पढ़ाई उपाय है।”
  • वर्ष 2006 का थीम - “साक्षरता जीवन बदल देती है।”
  • वर्ष 2005 का थीम - “पढ़ाई हमेशा के लिये है।”
  • वर्ष 2004 का थीम - “पढ़ना; एक अनवरत यात्रा।”
  • वर्ष 2003 का थीम - “जीवन के लिये दोस्त।”
  • वर्ष 2001 का थीम - “खुशी के घंटे।”
  • वर्ष 1999 का थीम - “एक किताब दो।”
  • वर्ष 1998 का थीम - “पढ़ना ठंडी हवा है।”
Tag - Know About World Book Day in Hindi, Know About World Book Day in pdf, World Book Day Ideas, World Book Day in hindi, World Book Day, World Book and Copyright Day 23 April, Copyright Day, World Book and Copyright Day in hindi

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

Thank You for Comment