गुरुवार, 26 अप्रैल 2018

जानें विश्‍व मलेरिया दिवस के बारे में - Learn About World Malaria Day in Hindi

दोस्‍तो आज हम अपने इस पोस्‍ट में विश्‍व मलेरिया दिवस के बारे में जानकारी देंगेे विश्व मलेरिया दिवस प्रतिवर्ष 25 अप्रैल को मनाया जाता है इसके अलावा इस दिन मलेरिया रोग के नियंत्रण के लिए तरह-तरह के वैश्विक प्रयास किए जाते हैै जिससे कि मलेरिया रोग को फैलने से रोका जाये तो अाइये दोस्‍तो जानते हैै विश्‍व मलेरिया दिवस के इतिहास केे बारे में महत्‍वपूर्ण जानकारी -

Learn About World Malaria Day in Hindi

जानें विश्‍व मलेरिया दिवस के बारे में  - Learn About World Malaria Day in Hindi

दोस्‍तो विश्व मलेरिया दिवस प्रतिवर्ष 25 अप्रैल को मनाया जाता है इस दिन मलेरिया के नियंत्रण हेतु अनेक प्रकार के वैश्विक प्रयास किए जाते हैं मच्छरों के कारण फैलने वाली इस बीमारी में हर साल लाखों लोग अपनी जान गवाँ देते हैं मलेरिया रोग 'प्रोटोजुअन प्लाज्‍मोडियम' नामक कीटाणु मादा एनोफिलीज मच्छर के  फैलते है सम्‍पूूर्ण विश्व की 3.3 अरब जनसंख्या में लगभग 106 देशों में मलेरिया का खतरा है वैश्‍‍‍ि‍‍‍वक रिपोर्ट के अनुसार वर्ष 2012 में मलेरिया से लगभग 6,27,000 लोंगो की मृत्यु हुई जिनमें से अधिकतर अफ्रीकी, एशियाई तथा लैटिन अमेरिकी बच्चे शामिल थे विश्व मलेरिया दिवस 8 आधिकारिक वैश्विक सामुदायिक स्वास्थ्य अभियानों में से एक हैं जिसे विश्व स्वास्थ्य संगठन द्वारा चिन्हित किया गया है 
विश्व मलेरिया दिवस की स्थापना मई वर्ष 2007 में की गयी लेकिन यह दिवस सर्वप्रथम वर्ष 2008 को मनाया गया यह महत्‍वपूर्ण घोषणा 60 वे विश्व स्वास्थ्य सभा के सत्र के दौरान की गई विश्व मलेरिया दिवस की स्थापना से पूर्व 25 अप्रैल सन 2001 से मनाए जाने वाले अफ्रीका मलेरिया दिवस के एक वर्ष पश्चात ऐतिहासिक अबुजा घोषणा में 44 मलेरिया ग्रसित देशों ने अफ्रीकी शिखर सम्मेलन के दौरान हस्ताक्षर किए
विश्‍व मलेरिया दिवस को प्रतिवर्ष 25 अप्रैल मनाने का उददेश्‍य मलेरिया को जड़ से मिटाने के लिए कारगार कदम उठाने के भरसक प्रयासों को हरी झंडी दी गई थी। साथ ही जनता को मलेरिया के प्रति जागरूक करने और इस रोग पर लोगों का ध्यान आकर्षित करने की पहल की गई थी

विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) के आंकड़ों के अनुसार पूरी दुनिया में प्रतिवर्ष क़रीब 50 करोड़ लोग मलेरिया से पीड़ित होते हैं जिनमें से करीब 27 लाख रोगीयों की मृत्‍यु हो जाती है जबकि मृत्‍यु होने वालों में से आधे पाँच साल से कम के बच्चे होते हैं
दरसल मलेरिया मुख्‍यतः तीन प्रकार का होता हैं- मलेरिया टर्शियाना, क्वार्टाना और ट्रोपिका। इनमें सबसे ख़तरनाक है मलेरिया ट्रोपिका, जो पी.फ़ाल्सिपेरम नामक रोगाणु से फैलता है और भारत में भी चारों और फैला हुआ है

Tag - Learn About World Malaria Day in Hindi, Know About World Malaria Day in Hindi, World Malaria Day in Hindi, World Malaria Day, World Malaria Day 2018, world malaria day 2018 theme, malaria day in india 2017

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

Thank You for Comment